नगर पालिका परिषद, बहेड़ी

जनपद - बरेली

उत्तर प्रदेश के पश्चिमोत्तर भाग में स्थित बहेड़ी, बरेली जिले का प्रमुख नगर है। यह बरेली बागेश्वर रोड पर बरेली से 50 कि0मी0 दूर उत्तर दिशा में स्थित है। वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार नगर बहेड़ी नगर की जनसंख्या-68468 है। उत्तराखण्ड की सीमा में लगे होने के कारण आवागमन हेतु पर्यटक एवं धार्मिक तीर्थयात्री बहेड़ी नगर से होकर जाते हैं जिसके कारण उत्तराखण्ड में प्रमुख पर्यटन एवं धार्मिक स्थलों को जाने हेतु यह एक अत्यन्त महत्वपूर्ण नगर है। बहेड़ी नगर की महत्ता को दृषिटगत रखते हुए नगर के विकास के लिए सन 1936 में अंग्रेजी शासन के अन्तर्गत उत्तर प्रदेश के तत्कालीन राज्यपाल सर हैरी हैग द्वारा नगर बहेड़ी को टाउन एरिया घोषित किया गया था। वर्ष 1957 में यह चतुर्थ श्रेणी की नगर पालिका एवं वर्ष 1958 में तृतीय श्रेणी की नगर पालिका घोषित हुर्इ जो वर्तमान में भी है। नगर पालिका परिष्द बहेड़ी द्वारा किये गये उत्कृषट कार्यो को दृषिटगत रखते हुए इसे वर्ष 2012 में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा आदर्श नगर पालिका परिषद घोषित किया गया है। वर्तमान में 25 वार्डो में विभाजित नगर का क्षेत्रफल 13 वर्ग कि0मी0 है। नगर पालिका परिषद बहेड़ी की सीमान्तर्गत एक शगुर फैक्ट्री केसर इण्टरप्राइजेज तथा लगभग 150 रार्इस मिल स्थित हैं। बहेड़ी नगर बरेली जिले की प्रमुख तहसीलों में से है। नगर में तहसील कार्यालय, ब्लाक कार्यालय, मुंसिफ मजिस्टे्रट कोर्ट जैसी प्रशासनिक इकार्इयां स्थित हैं तथा भारतीय स्टेट बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, नैनीताल बैंक, भारतीय जीवन बीमा निगम, बैंक आफ बड़ौदा, एच0डी0एफ0सी0 बैंक, एकसिस बैंक, ओरियण्टल बैंक आफ कामर्स जैसी प्रतिष्ठित बैंको की शाखाएं भी हैं।

हम कौन हैं? 
हम स्थानीय प्रशासन की एक संस्था हैं और हमको "शहरी स्थानीय निकाय"(यूएलबी) कहा जाता है। उत्तर प्रदेश में शहरी स्थानीय निकाय विभिन्न श्रेणियों के हैं और हमको यूएलबी का एक "नगर पालिका परिषद" प्रकार के रूप में वर्गीकृत किया जाता है।
हमको भारत के संविधान में संवैधानिक प्रावधानों के अनुसार गठित किया गया हैं। वर्ष 1992 में संसद द्वारा प्रख्यापित 74वें संशोधन में हमारे अस्तित्व को संरचना प्रदान की गई है।

हमको कौन नियंत्रित करता है?
स्थानीय सरकार की एक संस्था होने के नाते हमारे दो wings- के बीच एक स्पष्ट अंतर है। 
01 - विधानमंडल और
02 - कार्यकारी
हमारा विधानमंडल एक शासी निकाय है। इस शासीकीय निकाय को हमारे भौगोलिक क्षेत्र में रहने वाले नागरिकों द्वारा चुने गए है।
भौगोलिक क्षेत्र को २ भाग में किया गया है-चुनावी वार्डों। प्रत्येक वार्ड के लिए एक प्रतिनिधि का चुनाव होता है जो अपने वार्ड की समस्याओं को निकाय को सूचित करके समस्याओं का निस्तसरण करता है। अन्य सदस्य जो निकाय को नियंत्रित करते हैं। विधायक सांसद, नगर आयुक्त, जिला मजिस्ट्रेट।
शासकीय निकाय के लिए चुनाव राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा आयोजित किया जाता है। 18 वर्ष से अधिक कोई भी व्यक्ति निकाय के चुनावों में वोट करने के लिए पात्र है।
शासकीय निकाय संवैधानिक ढांचे और उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा किए गए नियमों के भीतर काम करता है।

हम क्या करते हैं?
राज्य सरकार द्वारा हमको निर्दिष्ट किया गया है कि हम अपने जीवन को बेहतर बनाने के लिये अपने भौगोलिक क्षेत्र में बहुत चीजों को कर सकते हैं। हमारे कुछ काम हैं:
01 - स्ट्रीट लाइट नेटवर्क की स्थापना और रातों में उचित सड़क प्रकाश व्यवस्था सुनिश्चित करना।
02 - नागरिकों के लिए जल आपूर्ति नेटवर्क की स्थापना, पानी की सुनिश्चित पर्याप्त मात्रा उपलब्ध और इसे बनाए रखना।